योग दिन का वृत्तांत – Yog Din 21 June

योग दिन का वृत्तांत – Yog Din 21 June: योग दिन हर साल को २१ जून को मनाया जाता है . मै ने मेरा अनुभव आपके साथ यहाँ साझा किया है

योग दिन का वृत्तांत – Yog Din 21 June

प्रातःकाल सूर्य उदय हो रहा था। आकाश में कोमल धूप बेहतरीन ताजगी लेकर आ रही थी। जगह-जगह से पक्षियों की मधुर चहचहाहट सुनाई दे रही थी। इस सुंदर वातावरण के बीच मैंने योग की प्रक्रिया शुरू करने का निश्चय किया।

मैं एक सुन्दर नदी के किनारे बसे हुए योगशाला में पहुंचा। वहां उपशासकों और योग गुरु आ चुके थे । अपनी जगह लेकर मैं आराम से बैठ गया। योगशाला का वातावरण शांत और प्राकृतिक था।

सभी लोगों ने एक साथ मन को शांत करने का एकाग्र निश्चय लिया। गुरुजी ने हमेंआंखें बंद कर ध्यान करना को कहा

अगले कुछ मिनटों में गुरूजी ने विभिन्न आसनों कर के दिखाए जैसे सूर्यनमस्कार, ताड़ासन, वृक्षासन, भुजंगासन और शवासन मै भी उनके साथ इन आसन को किया

योगशाला में मधुर संगीत बज रहा था जिससे मन को शांती मिल रही थी । श्वास लेने की विधि को ध्यान से अनुसरण करते हुए, मैंने गहरी सांस ली और धीरे-धीरे उसे छोड़ा।

ध्यान और आसनों के अभ्यास के बाद गुरुजी ने हमें प्राणायाम की सिखाई।

हमने अनुलोम-विलोम, कपालभाति, भस्त्रिका और उज्जायी प्राणायाम को करने का तरीका सीखा।

प्राणायाम के माध्यम से मैंने अपने श्वास को नियंत्रित करना सीखा और शांति और स्थिरता की अनुभूति की

आखिरी में, हम सब एक समूह में बैठकर ॐ मंत्रों का जाप किया.

See also रोजा खोलणे की दुवा - Roza Kholne Ki Dua

इस ध्यान सत्र में, मन की स्थिति और ध्यान की गहराई ने मुझे अपूर्व ताकत और शांति की अनुभूति दी।

ध्यान सत्र के समापन के बाद, मैं आनंदित और प्रस्सन महसूस कर रहा था। योग की प्रक्रिया ने मेरे शरीर, मन और आत्मा की संतुलन को सुधारा और मेरे जीवन में एक नई ऊर्जा का संचार किया। मैं योग से प्राप्त शांति, स्वास्थ्य और मनोशांति का आनंद उठा रहा था।

योग से निचित् ही शांति और आरोग्य प्राप्त होने में मदत मिलती है .

Leave a Comment