durga devi aarti marathi | दुर्गा देवीची आरती / दुर्गे दुर्घट भारी

durga devi aarti marathi | दुर्गा देवीची आरती / दुर्गे दुर्घट भारी : नवरात्रि मध्ये लोक दुर्गा ची पूजा करतात. जर तुम्ही मां दुर्गा ची भक्ती करू इच्छित असाल तर तुम्ही येथे आरती वाचू शकता.

durga devi aarti marathi
durga devi aarti marathi

durga devi aarti marathi | दुर्गा देवीची आरती / दुर्गे दुर्घट भारी

दुर्गे दुर्घट भारी तुजविण संसारी ।
अनाथनाथे अंबे करुणा विस्तारी ॥
वारी वारीं जन्ममरणाते वारी ।
हारी पडलो आता संकट नीवारी ॥ १ ॥

जय देवी जय देवी जय महिषासुरमथनी ।
सुरवरईश्वरवरदे तारक संजीवनी ॥ धृ. ॥

त्रिभुवनी भुवनी पाहतां तुज ऎसे नाही ।
चारी श्रमले परंतु न बोलावे काहीं ॥
साही विवाद करितां पडिले प्रवाही ।
ते तूं भक्तालागी पावसि लवलाही ॥ २ ॥

जय देवी जय देवी जय महिषासुरमथनी ।
सुरवरईश्वरवरदे तारक संजीवनी ॥ धृ. ॥

प्रसन्न वदने प्रसन्न होसी निजदासां ।
क्लेशापासूनि सोडी तोडी भवपाशा ॥
अंबे तुजवांचून कोण पुरविल आशा ।
नरहरि तल्लिन झाला पदपंकजलेशा ॥ ३ ॥

जय देवी जय देवी जय महिषासुरमथनी ।
सुरवरईश्वरवरदे तारक संजीवनी ॥ धृ. ॥

durga devi aarti marathi | दुर्गा देवीची आरती / दुर्गे दुर्घट भारी

मां दुर्गा आरती इन ह‍िंदी| Durga Mata Aarti Hindi

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी
तुमको निशिदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी
अर्थ- हे माता गोरी आपकी सदा ही जय हो। हे शक्तिशाली त्रिमूर्ति ब्रह्मा, विष्णु और शिव आपका दिन-रात ध्यान करते हैं

ओम जय अम्बे गौरी
अर्थ- आपकी जय हो माता गोरी

मांग सिन्दूर विराजत, टीको जगमग तो
उज्जवल से दो‌ नैना, चन्द्रवदन नीको
अर्थ- आपकी मांग में उज्ज्वल सिंदूर आपके माथे को सजता है और कस्तूरी की खुशबू मंत्रमुग्ध करती है। आपकी टिमटिमाती हुई आंखे खूबसूरत चेहरा चंन्द्रमा की तरह मंत्रमुग्ध कर देने वाला दिखता है।

ओम जय अम्बे गौरी
अर्थ- आपकी जय हो माता गोरी

कनक समान कलेवर, रक्ताम्बर राजै
रक्तपुष्प गल माला, कण्ठन पर साजै
अर्थ- आपका शरीर सोने की तरह चमकता हुआ और आपका लाल रंग वर्तनी है। आपकी गर्दन पर लाल फुलों की माला सुंदरता को बढ़ाती है।

ओम जय अम्बे गौरी
अर्थ- आपकी जय हो माता गोरी

केहरि वाहन राजत, खड्ग खप्परधारी
सुर-नर-मुनि-जन सेवत, तिनके दुखहारी
अर्थ- हे देवी आप शेर की सवारी करती हैं और हाथों में खोपड़ी और तलवार रखती हैं। आप संतो, पुरुषों और सभी भक्तों के कष्ट हरती हैं।

ओम जय अम्बे गौरी
अर्थ- आपकी जय हो माता गोरी

कानन कुण्डल शोभित, नासाग्रे मोती
कोटिक चन्द्र दिवाकर, सम राजत ज्योति
अर्थ- आपके झुमके और नाक का मोती एक मनोरम की तरह दिखते हैं। आप एक ऐसे प्रकाश का उत्सर्जन करती हैं जो एक हजार सुरज और चांद की रोशनी से भी अधिक है।

ओम जय अम्बे गौरी
अर्थ- आपकी जय हो माता गोरी

शुम्भ-निशुम्भ बिदारे, महिषासुर घाती
धूम्र विलोचन नैना, निशिदिन मदमाती
अर्थ- हे देवी आप राक्षसों शुम्भ, निशुम्भ, महिषासुर और धुम्रिलोचन को मारने वाली हैं। आपकी आंखे क्रोध को दर्शाती हैं।

ओम जय अम्बे गौरी
अर्थ- आपकी जय हो माता गोरी

चण्ड-मुण्ड संहारे, शोणित बीज हरे
मधु-कैटभ दो‌उ मारे, सुर भयहीन करे

See also IBPS मार्फत ‘विशेषज्ञ अधिकारी’ पदांची भरती -- IBPS SO Recruitment 2020

अर्थ- आपने चंड और मुंड, रक्षाबीज, मधु और कैताभ का सर्वनाश किया है। वो आप ही हैं जो डर को खत्म करती हैं।

ओम जय अम्बे गौरी
अर्थ- आपकी जय हो माता गोरी

ब्रहमाणी रुद्राणी तुम कमला रानी
आगम-निगम बखानी, तुम शिव पटरानी
अर्थ- हे देवी आप ब्रह्मा, विष्णु और शिव के संघों की अभिव्यक्ति हैं। आप शिव के हृदय के परम शासक हैं।

ओम जय अम्बे गौरी
अर्थ- आपकी जय हो माता गोरी

चौंसठ योगिनी गावत, नृत्य करत भैरव
बाजत ताल मृदंगा, और बाजत डमरु
अर्थ- चौंसठ योगिनियाँ मृदंगा और डमरू की धुन पर आपकी उपस्थिति में नाचती-गाती हैं।

ओम जय अम्बे गौरी
अर्थ- आपकी जय हो माता गोरी

तुम ही जग की माता, तुम ही हो भरता
भक्‍तन की दु:ख हरता, सुख सम्पत्ति करता
अर्थ- हे मां आप इस ब्रह्मांड की माता हैं, उद्धारकर्ता हैं। आप सभी भक्तों को परेशानियों को दूर करती हैं और उन्हें सुख और समृद्धि की वर्षा करती हैं।

ओम जय अम्बे गौरी
अर्थ- आपकी जय हो माता गोरी

भुजा चार अति शोभित, वर-मुद्रा धारी
मनवान्छित फल पावत, सेवत नर-नारी
अर्थ- आप अपने भक्तों को आशीर्वाद देने के लिए युद्ध मुद्रा धारण करती हैं और जो लोग आपकी पूजा करते हैं उनकी सभी इच्छाएं पूर्ण करती हैं।

ओम जय अम्बे गौरी
अर्थ- आपकी जय हो माता गोरी

कन्चन थाल विराजत, अगर कपूर बाती
श्रीमालकेतु में राजत, कोटि रतन ज्योति
अर्थ- अगरबत्ती, कपूर और विक्स जैसी वस्तुएं आपके लिए एक सुनहरी पट्टिका पर रखी जाती हैं। आप करोड़ों रत्नों की तुलना में हल्के चमकीले उत्सर्जन करती हैं।

ओम जय अम्बे गौरी
अर्थ- आपकी जय हो माता गोरी

श्री अम्बेजी की आरती, जो को‌ई नर गावै
कहत शिवानन्द स्वामी, सुख सम्पत्ति पावै
अर्थ- शिवानंद स्वामी कहते हैं कि जो हर दिन आपकी आरती गाता है उसे सुख और धन की प्राप्ति होती है।

ओम जय अम्बे गौरी
अर्थ- आपकी जय हो माता गोरी

Leave a Comment